Tuesday, 29 October 2019

समीक्षा


       पढ़ कर,गुन कर, गुण दोषों की करें समीक्षा,
        समय पड़े  पर  आवश्यक  उत्तीर्ण परीक्षा,
       लेकिन इतना  धीरज  रक्खें शांत  भाव से,
        फल पाने को करना  पड़ती  सदा प्रतीक्षा l                                                                                                                                                             


2 comments:

  1. फालोवर्स का बिजेच भी लगाइए इस ब्लॉग पर।

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (30-10-2019) को     "रोज दीवाली मनाओ, तो कोई बात बने"  (चर्चा अंक- 3504)     पर भी होगी। 
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है। 
     --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'  

    ReplyDelete