Tuesday, 29 May 2018

पाप पुन्य के गणित को,


पाप पुण्य के गणित को, समझ सका है कौन,
मन चाही  है  व्यवस्था, शास्त्र हुये  हैं मौन l 
                 
                      पंथों  ने बाँटा हमें, द्वैत और अद्वैत,
                      ईश्वर सत्ता ऐक है, प्राणी अब तू चेत l