Thursday, 28 December 2017

जब अधर्म बढ़ता धरती पर

जब अधर्म बढ़ता  धरती  पर, कोई  सन्त पुरुष  आता है,
हमको ज्ञान मार्ग   दिखलाने, भारत  ही  गौरव  पाता  है l
संत अवतरित  हुये  यहाँ पर, विश्व बन्धु  का  पाठ पढ़ाने,

उसका फल हम सबको मिलता, जन जन उनके गुण गाता है l 

- डॉ हरिमोहन गुप्त