Friday, 3 November 2017

योग

ऐश औ आराम  से  जीवन कटे,  यह भोग है,
असंतुलित भोजन करें परिणाम इसका रोग  है l
परमात्मा से मन सहज हम जोड़ कर देखें सही,
स्वस्थ हो तन मन हमारा,बस यही तो योग है l

जीवन  का  यदि सम्यक ढंग से करना है उपयोग,
अल्पाहारी,  संग  में  निद्रा,  करें  आप  उपयोग l
हम शतायु  की  सोचें  मन  में, रहना हमें निरोग,
स्वास्थलाभ संग,मन प्रसन्न हो,नियमित करिये योग l

- Dr. Harimohan Gupt