Sunday, 25 February 2018

कान दूसरा ना सुने, आँख रहे अनजान

कान दूसरा ना सुने, आँख रहे अनजान,
सब कुछ हो परमार्थ हित, वही श्रेष्ठ है दान.