Monday, 30 April 2018

जीवन में संघर्षों का क्रम चलता आया है

जीवन में संघर्षों का क्रम चलता आया है,
 और रात की गोद प्रात पलता आया है l
 चिर अशांति या पीड़ित मन आलोकित करने,
 सम्बन्धों का स्नेह सदा जलता आया है l