Friday, 13 July 2018

मिले राम का धाम


राम चरण रज पा सके, कविश्री “तुलसीदास”,
चरण वन्दना हम  करें, राम  आयंगे  पास l
                    
                      रामचरित मानस लिखा, तुलसी के हैं राम,
                      गुण गायें हम राम के,मिले राम का धाम l