Sunday, 29 January 2017

इंसानियत में ढूंढिएगा

इंसानियत में ढूंढिएगा , मैं वहीँ मिल जाऊँगा
क्यों व्यर्थ मुझको खोजते हो आप अपने मजहबों में?

-   
      - डॉ. हरिमोहन गुप्त