Sunday, 15 January 2017

जो माया के दास

जो माया के दास , वही रहते उदास 
छोड़ो उसको सब कुछ , रहे आपके पास
डॉ. हरिमोहन गुप्त