Sunday, 13 May 2018

क्या करना धन जोड़ कर, निर्धन के धन राम,




             
                       क्या करना धन जोड़ कर, निर्धन के धन राम,
                       मृदु वाणी अरु सत्य से, बस रक्खो तुम काम l


                                   डा० हरिमोहन गुप्त