Sunday, 27 May 2018

कुणाल


विमाता के प्रणय प्रेम के अस्वीकार करने का दण्ड सम्राट अशोक के पुत्र कुणाल को गरम सलाखों से अपने नेत्रों को खो कर भोगना पड़ा l ऐतहासिक प्रष्ठभूमि पर आधारित सत्य घटना है, खण्ड काव्य “कुणाल,ऐक अप्रतिम त्याग” l                   
               “नेत्र दिये पर नहीं डिगा,शाशक अशोक का धन्य लाल था,
               प्रणय प्रेम वात्सल्य रूप में, बदल दिया ऐसा कुणाल था”


           आप नीचे के लिंक पे क्लिक करके आसानी से इस किताब तक पहुँच सकते हैं