Friday, 18 May 2018

रात जागते ही रहें,

                    रात जागते ही रहें, रोगी, कामी, चोर,
                    केवल कायर,दीन ही, सदा मचाते शोर l
                          लोभ और निर्लज्यता, गर्व संग है क्रोध,
                          मानवता की राह  में, वे बनते अवरोध l