Friday, 25 May 2018

भाग्यहीन

     महाभारत में कर्ण भी एक पात्र है जिसे राजपुत्र होने पर भी शूद्र का जीवन व्यतीत करना पड़ा था क्योंकि वह कुँवारी माँ कुन्ती का पुत्र था और उसे नदी में प्रवाहित कर दिया गया था l जिसे शूद्र कुल की नारी राधा ने पुत्र मान कर पाला l
     शिक्षा गृहण के समय परुशराम से , शस्त्र प्रदर्शन के अवसर पर द्रोणाचार्य से और विवाह के लिए स्वयम्वर में राजा द्रुपद के द्वारा उसे शूद्र होने के कारण अपमानित होना पड़ा l
 
“किस घर जन्मा, किसने पाला  सूतपुत्र ही रहा विवादित,
अपमानित ही सदा रहा वह, दुर्योधन के लिये समर्पित
माँ, भाई, ऐश्वर्य, राजसुख, त्याग सभी वह दूर रहा था
दान, वीरता, शोर्य, पराक्रम, मित्र प्रेम से सभी प्रभावित” ।।


 आप नीचे के लिंक पे क्लिक करके आसानी से इस किताब तक पहुँच सकते हैं