Sunday, 6 May 2018

सुन कर समझें बात को,


सुन कर समझें बात को, मथ कर करें विचार,
 जिनके उर नवनीत है, वे करते उपकार l
 सुख दुख में जो ऐक रस, रहे अलग पहिचान,
 सहन शील ही जगत में, पाते हैं सम्मान l